Text selection Lock by Hindi Blog Tips

Friday, 3 January 2014

मुक्तक ---
     जब दिल में उठे तूफ़ान ,सुनो गरजती लहरों में गीत  
    जब सांसें होने लगे बेबस,सुनों बिफरती बयार में गीत
    देने विराम भटकते तन मन को,रम जाओ कुदरती संगीत में


    जब बैचेन होने लगे जिगर,सुनों दिल की धड़कनों में गीत

     ---मँजु शर्मा

1 comment:

  1. आपकी लेखनी अदभुत है बधाई

    ReplyDelete