Text selection Lock by Hindi Blog Tips

Saturday, 16 March 2013

            कविता - उस रात .

                 किताबों के पन्ने
                  पलटती रही सारी रात
                  अक्षरों में ढूंढ़ती रही
                  तुम्हें सारी रात।
                         भावनाओं की इंक में डुबो
                         यादों की कलम से
                        गुलाबी कागज़ पे लिखती रही
                         तेरा नाम सारी रात।
                  अम्बर में छिटकी चाँदनी
                  उतारती अपने अंतस में
                  पूछती रही चाँद से
                  पता तेरा सारी रात।
                        ऊषा की लाली छाने लगी
                        पंछियों ने ली अंगड़ाई
                        भोर का तारा मान तुझे
                        इंतजार करती रही सारी रात।
                  सूर्य किरणों ने चूमा धरती को
                  कलरव गूंजा चहुँ ओर
                  प्रक्रति का सुर बना तुझे
                  मौन संगीत सुनती रही सारी रात।।
                                                             मंजु शर्मा
                                                               श्रीनगर

6 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन बेचारा रुपया - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. शिवम् मिश्रा जी

      Delete
  2. बहुत सुन्दर नज़्म....
    बधाई.

    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया अनु जी

      Delete
  3. बेहतरीन प्रस्तुति.आभार.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया मदन मोहन सक्सेना जी

      Delete